आयुष चिकित्सकों के समर्थन में सदर विधायक, सीएम को लिखा पत्र

शेयर करें

आयुष एसोसिएशन ऑफ झारखंड के हजारीबाग इलाकों से जुड़े राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अंतर्गत कार्यरत आयुष चिकित्सकों ने हजारीबाग सदर विधायक मनीष जायसवाल से मिलकर उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत कराते हुए सरकार के स्तर पर समस्या के निराकरण के लिए सहयोग मांगा और एक मांग पत्र सौंपा। आयुष चिकित्सकों द्वारा सौंपे गए मांग पत्र में मुख्य रूप से तत्काल पड़ोसी राज्य बिहार की तरह समान काम- समान वेतन के तर्ज पर एनएचएम में कार्यरत एमबीबीएस चिकित्सकों के समतुल्य मानदेय एवं प्रति वर्ष 10% की वार्षिक वृद्धि तथा सेवानिवृत्ति उम्र 67 वर्ष किए जाने, सभी आयुष चिकित्सकों के अस्थाई रिक्त पदों पर बिना शर्त सीधी नियुक्ति की प्रक्रिया को अपनाते हुए समायोजन किए जाने, नियमित चिकित्सकों की तरह ही आयुष चिकित्सकों को भी पीएल, इएल, एसएल एवं अन्य सुविधाएं प्रदान किए जाने, ईपीएफ की कटौती एवं सेवा पुस्तिका खोली जाने, कोविड-19 में कार्य कर रहे चिकित्सकों की मृत्यु होने पर गरीब कल्याण योजना के तहत 50 लाख का बीमा राशि साथी आश्रितों को एक सरकारी नौकरी दिए जाने, यथाशीघ्र सभी आयुष चिकित्सकों को कोरोना योद्धा के रूप में सरकार के वेबसाइट में पंजीकृत किए जाने और सभी सीएचसी एवं पीएचसी में आयुष के लिए अलग ओपीडी की व्यवस्था कर उसमें होम्योपैथिक आयुर्वेदिक तथा यूनानी की दवा उपलब्ध कराए जाने की मांग विशेषरुप से शामिल है। आयुष चिकित्सकों की मांगों को जायज बताते हुए सदर विधायक मनीष जायसवाल ने उनके समर्थन में झारखंड के मुख्यमंत्री को एक समर्थन पत्र लिखते हुए बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अंतर्गत आयुष चिकित्सक झारखंड राज्य के सभी सीएचसी व पीएचसी में कार्यरत हैं, जो अपने कार्य के अतिरिक्त अस्पताल के सभी कार्य जैसे ओपीडी, आइपीडी, इमरजेंसी, आरआई तथा सभी स्वास्थ्य कार्यक्रमों में मुख्य रूप से सेवाएं देते आ रहे हैं। वैश्विक महामारी कोविड-19 के शुरुआती समय से फ्रंटलाइन कोरोनावरियर्स की भूमिका में सभी तरह के चिकित्सा सेवा कार्य का आयुष चिकित्सक निर्वहन कर रहे हैं।किंतु दुर्भाग्य है कि इतने चुनौतीपूर्ण कार्य निष्ठा पूर्वक किए जाने के बावजूद इन्हें अल्पमानदेय पर ही कार्य करने को मजबूर होना पड़ रहा है। विधायक श्री जायसवाल ने झारखंड सरकार से तत्काल इनके विभिन्न मांगों पर विचार करते हुए इन्हें समवर्ती राज्य बिहार के अनुरूप एलोपैथिक चिकित्सक के समतुल्य मानदेय एवं सुविधा देने और एनएचएम में कार्यरत सभी आयुष चिकित्सकों को राज्य के रिक्त पदों पर समायोजन करने पर विचार करने का आग्रह किया है। विधायक श्री जायसवाल से मिलने वाले आयुष चिकित्सकों में आयुष एसोसियेशन ऑफ झारखंड के सचिव डॉ.मुकेश झा, संघ हजारीबाग इकाई के अध्यक्ष डॉ.इरफान अंसारी, उपाध्यक्ष डॉ.आमिर, सचिव डॉ.इंद्रदेव प्रसाद, कोषाध्यक्ष डॉ.नज़ीर आलम मौजूद रहे। सभी ने विधायक मनीष जायसवाल के प्रति समर्थन पत्र लिखने पर आभार जताया और उन्हें धन्यवाद दिया।